Breaking News
Home 25 खबरें 25 पाकिस्तान / मौलाना ने कहा कि कमेटी में शामिल मंत्री अगर बातचीत के लिए आते हैं तो उनके दूसरे हाथ में प्रधानमंत्री का इस्तीफा होना चाहिए।

पाकिस्तान / मौलाना ने कहा कि कमेटी में शामिल मंत्री अगर बातचीत के लिए आते हैं तो उनके दूसरे हाथ में प्रधानमंत्री का इस्तीफा होना चाहिए।

Spread the love

सरकार ने बातचीत के लिए कमेटी बनाई, इससे मौलाना ने दो टूक कहा- वार्ता के लिए आएं तो दूसरे हाथ में इमरान का इस्तीफा हो

मौलाना फजल-उर-रहमान 31 मार्च से आजादी मार्च निकालेंगे, आर्मी चीफ से कहा- आंदोलन खत्म नहीं किया जाएगा

इस्लामाबाद. प्रधानमंत्री इमरान खान के इस्तीफे पर अड़े मौलाना फजल-उर-रहमान को मनाने की कोशिशें नाकाम साबित होती दिख रही हैं। रहमान के आजादी मार्च को रोकने के लिए सरकार और सेना पूरा जोर लगा रही है। मौलाना से बातचीत के लिए इमरान ने मंत्रियों की कमेटी बनाई। यह आज शाम उनसे चर्चा करेगी।

बातचीतसेपहलेशर्त
‘द न्यूज’ चैनल के मुताबिक, आर्मी चीफ का प्रस्ताव ठुकराने के बाद मौलाना का रुख ज्यादा सख्त हो गया है। गुरुवार देर रात इमरान ने मंत्रियों की समिति बनाई। इसको मौलाना से बातचीत कर उन्हें आजादी मार्च टालने का जिम्मा सौंपा गया। समिति और रहमान के बीच शुक्रवार शाम बातचीत की संभावना है। इसके पहले मौलाना का बयान आया। उन्होंने कहा- बातचीत करने में कोई दिक्कत नहीं है। समिति में शामिल मंत्रियों का स्वागत है। वो आएं लेकिन दूसरे हाथ में प्रधानमंत्री इमरान खान का इस्तीफा जरूर लाएं। इसके बिना कोई वार्ता नहीं होगी। 

धोखादेरहीहैसरकार
मौलाना के आजादी मार्च में नवाज शरीफ और बिलावल भुट्टो की पार्टियां भी शामिल होंगी। कुछ कट्टरपंथी संगठन भी समर्थन का ऐलान कर चुके हैं। दूसरी तरफ, सेना इमरान सरकार को बचाने के लिए पूरा जोर लगा रही है। मौलाना ने शुक्रवार को कहा, “हमें धोखा दिया जा रहा है। एक तरफ सरकार बातचीत की पहल करती है तो दूसरी तरफ इमरजेंसी और मार्शल लॉ के हालात पैदा कर दिए गए हैं। कश्मीरियों के साथ भी इमरान ने छल किया है। उनसे कोई उम्मीद इसलिए भी नहीं की जा सकती क्योंकि वो इलेक्टेड नहीं बल्कि सिलेक्टेड प्राइम मिनिस्टर हैं। चुनाव में सिर्फ धांधली हुई। इमरान जब तक इस्तीफा नहीं देंगे, तब तक आजादी मार्च जारी रहेगा।” दूसरी तरफ, बिलावल भुट्टो ने कहा- इमरान खान विपक्षी नेताओं की हत्या की साजिश रच रहे हैं। 

मीडियाकोचेतावनी
सेना ने देश के ज्यादातर मीडिया हाउसेज को चेतावनी दी है। उनसे कहा गया है कि मौलाना के आजादी मार्च को कवरेज देने से परहेज करें। यही वजह है कि मौलाना के समर्थक सोशल मीडिया पर सक्रिय हो गए हैं। आम अवाम से अपील में कहा गया है कि इस नकारा और सिलेक्टेड सरकार को हटाने के लिए मार्च में शामिल हों। इमरान के बाद आर्मी चीफ भी मीडिया हाउसेज के मालिकों से मिल चुके हैं। हालांकि, सेना ने इसे सौजन्य भेंट बताया। 

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*