Breaking News
Home 25 खबरें 25 यूरोप / यूरोप की पुलिस एजेंसी यूरोपोल ने महाद्वीप की बड़ी महिला अपराधियों को पकड़ने के लिए ‘क्राइम हैज नो जेंडर’ अभियान चलाया

यूरोप / यूरोप की पुलिस एजेंसी यूरोपोल ने महाद्वीप की बड़ी महिला अपराधियों को पकड़ने के लिए ‘क्राइम हैज नो जेंडर’ अभियान चलाया

Spread the love

पुलिस का कहना है- कई लोगों को यह महिलाएं शक्ल से मासूम लग सकती हैं, लेकिन इनकी हरकतें क्रूर हैं

यूरोप की पुलिस एजेंसी ने वेबसाइट पर हत्या, मानव और नशा तस्करी जैसे अपराधों में शामिल फरार 18 महिलाओं की तस्वीरें जारी कीं

म्यूनिख.  एजेंसी ने अपनी वेबसाइट पर 18 महिला अपराधियों की तस्वीर डाली हैं। इनमें से अधिकतर के नाम हत्या, मानव और ड्रग्स तस्करी जैसे अपराधों से जुड़े हैं। वेबसाइट पर बताया गया है कि इनमें से ज्यादातर महिलाओं की खोज 21 देशों की पुलिस कर रही हैं। 

यूरोपोल के मुताबिक, लोगों को आमतौर पर लगता है कि महिलाएं इतने बड़े अपराध नहीं कर सकतीं। इसलिए वे पहली नजर में उनके प्रति सहानुभूति रखते हैं। लेकिन सच्चाई यह है कि इन्होंने पुरुषों से भी बड़े अपराधों को अंजाम दिया है। इसलिए इन्हें पकड़ने के लिए हमें आम नागरिकों की मदद की भी जरूरत है। 

मास्क के पीछे छिपाए गए अपराधियों के चेहरे

वेबसाइट पर महिलाओं की पहचान के लिए इंटरेक्टिव ग्राफिक्स बनाए गए हैं। सभी अपराधियों के चेहरे मास्क के पीछे छिपाए गए हैं, ताकि लोग यह न पहचान पाएं कि उनका लिंग क्या है। इसके बाद जैसे ही यूजर्स चेहरे पर क्लिक करते हैं, वैसे ही खुलासा होता है कि अपराधी महिला हैं या पुरुष। लोग इसमें अपराधी की क्रूरता की कहानी भी पढ़ सकते हैं। 

आम लोगों में अपराधियों को पहचानने की क्षमता बढ़ेगी: यूरोपोल

यूरोपीय पुलिस के प्रवक्ता टाइन होलेवोइट के मुताबिक, जब अपराधी का चेहरा सामने आता है तो महिला को देख कर यूजर्स चौंक सकते हैं। इस तरीके से वेबसाइट में लोग अच्छे से समझेंगे कि महिलाएं किस तरह के अपराधों में शामिल हो सकती हैं। होलेवोइट का कहना है कि इससे विजिटर्स की संख्या बढ़ेगी और आम लोगों में पहली नजर में मास्क के पीछे सिर्फ आंखें देखकर अपराधी को पहचानने की क्षमता भी बढ़ेगी। 

फ्रांस को देह व्यापार के जाल में फंसाने वाली जेसिका, हंगरी को इल्दिको की तलाश
फ्रांस को नाइजीरियाई नागरिक जेसिका एदोसोमवान की तलाश है। जेसिका फ्रांस में देह व्यापार चलाती थी। एक समय उसने करीब 60 महिलाओं को बेहतर भविष्य के सपने दिखाकर तस्करी के जरिए लीबिया से फ्रांस पहुंचाया था। 2007 में लियो प्रांत में छापे के दौरान वह भाग निकली थी। तब उसके 26 साथियों को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस के मुताबिक, उसके इटली या जर्मनी में छिपे होने की खबर है। 

इसके अलावा हंगरी को नशे का व्यापार और बच्चों की तस्करी करने वाली इल्दिको दुदास की तलाश है। यूरोपोल के मुताबिक, इल्दिको को एक मामले में 2011-12 में छह साल की जेल की सजा सुनाई गई थी, लेकिन वह लंबे समय से लापता है। 

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*