Breaking News
Home 25 राज्य/राजनीति 25 राजस्थान 25 कांग्रेस बोली काम में आ गया काला कानून, 17-0 जीरो से हार गई भाजपा

कांग्रेस बोली काम में आ गया काला कानून, 17-0 जीरो से हार गई भाजपा

Spread the love

विधानसभा के बजट सत्र का पहला ही दिन। सदन हंगामे की भेंट चढ़ गया।

जयपुर।विधानसभा के बजट सत्र का पहला ही दिन। सदन हंगामे की भेंट चढ़ गया। सरकार एवं विपक्षी सदस्यों के बीच तीखे शब्द बाण चले। शोर-शराबे के बीच राज्यपाल का अभिभाषण पढ़ा हुआ मान लिया गया। अफसर-नेताओं को बचाने वाले बिल पर भी हंगामा हुआ। गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया बोले, अध्यादेश खत्म हो गया। किसी काम तो आया नहीं। इशारों ही इशारों में उपचुनाव में भाजपा की हार पर तंज सकते हुए कांग्रेस सचेतक गोविंद सिंह डोटासरा बोले, काला कानून काम तो आ गया। सरकार 17 जीरो से हार गई। जानिए और इस बारे में

– भाजपा विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने तो प्रवर समिति का समय बढ़ाने के विरोध में कुछ देर के लिए सदन से वाक आउट किया। राज्य विधानसभा के बजट सत्र की शुरुआत सोमवार सुबह 11 बजे राज्यपाल के अभिभाषण से हुई।

बेनीवाल वेल में खड़े रहे

– राज्यपाल कल्याण सिंह ने जैसे ही अभिभाषण शुरू किया। निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल अपनी सीट पर खड़े होकर प्रदेश में संपूर्ण कर्ज माफी की मांग करते रहे। कांग्रेस के उपनेता रमेश मीणा दिल्ली सरकार की तर्ज पर दस संसदीय सचिवों पर कार्रवाई का मुद्दा उठाने लगे। सत्तापक्ष के सदस्य मेज थपथपाते रहे। इस बीच बेनीवाल वेल में आकर अपनी बात रखने लगे। वहीं, कांग्रेस की तरफ से सचेतक गोविंद सिंह डोटासरा ने मोर्चा संभाल लिया। उन्होंने प्रदेश की कानून-व्यवस्था, बेरोजगारी, किसान और बजरी को लेकर सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। कांग्रेस के अन्य सदस्य भी डोटासरा के समर्थन में खड़े हो गए।

– शोर-शराबे के बीच संसदीय कार्यमंत्री राजेंद्र राठौड़ ने राज्यपाल से अभिभाषण का आखिरी पेज पढ़ने का निवेदन किया। राज्यपाल ने वैसा ही किया। राज्यपाल बा मुश्किल 15 मिनट में सदन में रहे।

तिवाड़ीराठौड़ में तीखी बहस

– राज्यपाल के अभिभाषण के आधे घंटे बाद सदन की कार्यवाही फिर शुरू हुई। गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने अफसर-नेताओं को बचाने संबंधी बिल पर चर्चा के लिए प्रवर समिति को और अधिक समय दिए जाने का मसला सदन में रखा। सदन ने विपक्ष के हंगामे के बीच प्रवर समिति का समय आगामी सत्र के प्रथम सप्ताह तक के लिए बढ़ा दिया।

तिवाड़ी और राठौड़ में नोकझोंक

– इस बीच संसदीय कार्यमंत्री राजेंद्र राठौड़ एवं भाजपा के वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी के बीच तीखी नोक-झोंक हो गई। तिवाड़ी ने व्यवस्था का प्रश्न उठाते हुए कहा कि जो बिल लैप्स हो गया उसमें अब प्रवर समिति क्या कर रही है? राठौड़ ने कहा कि तिवाड़ी अनर्गल आरोप लगा रहे हैं। तिवाड़ी ने कहा कि पूरी सरकार ही अनर्गल हो गई है। कांग्रेस सदस्यों ने भी इसका विरोध किया। तिवाड़ी सदन के बाहर चले गए।

विधानसभा में शोकाभिव्यक्ति

– विधानसभा में सोमवार को उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल बी.एल. जोशी, छत्तीसगढ़ के पूर्व राज्यपाल दिनेश नंदन सहाय, मंत्री डॉ. दिगंबर सिंह, विधानसभा के पूर्व सदस्य सुरेन्द्र सिंह राठौड़, उदय सिंह राठौड़, राम सहाय सोनड़ एवं श्यामा कुमारी सेंगर को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। सदस्यों ने दो मिनट का मौन रखकर दिवंगत आत्मा की शांति और उनके शोकसंतप्त परिजनों को बिछोह सहन करने के लिए शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की। इसके बाद सदन की कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*